loader

बर्फ में खड़े सैनिकों को ज़रूरी भोजन तक नसीब नहीं: कैग रिपोर्ट

सियाचिन और लद्दाख जैसे बर्फीले ग्लेशियरों में खड़े रहकर दुश्मनों से देश की सुरक्षा करने वाले जवानों के पास न तो स्नो ग्लासेस हैं और न ही बूट और न ही उन्हें ज़रूरी भोजन मिलता है। इस कारण से भयंकर ठंड के चलते जवानों को बीमारियों का सामना करना पड़ता है। यह किसी राजनीतिक दल के नेता के द्वारा लगाए गए आरोप नहीं हैं बल्कि प्रतिष्ठित सरकारी संस्था नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है। निश्चित रूप से यह बेहद दुखद स्थिति है। 
इकनॉमिक टाइम्स में छपी ख़बर में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि केंद्र सरकार (रक्षा सेवाएँ)-सेना पर कैग की रिपोर्ट में कहा गया है कि सेना के जवानों को बहुत ऊंचाई वाले क्षेत्रों में दिन भर में जितना भोजन चाहिए, वह भी उन्हें नहीं मिल पा रहा है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सैनिकों की कैलोरी की मात्रा ज़्यादा से ज़्यादा 82 प्रतिशत है। कैग की इस रिपोर्ट को राज्यसभा में रखा गया लेकिन लोकसभा में इसे नहीं रखा जा सका। इस कारण ही कैग राजीव महर्षि इस रिपोर्ट को जारी नहीं कर सके। 
ताज़ा ख़बरें

राज्यसभा के सूत्रों जिन्होंने यह रिपोर्ट देखी है, उनका कहना है कि यह रिपोर्ट ऊंचाई वाले इलाक़ों में भारतीय सेना की स्थिति के बारे में बताती है। रिपोर्ट कहती है कि स्नो गॉगल्स 62 फीसदी से लेकर 98 फीसदी तक कम हैं और इस कारण जवानों का चेहरा व आंखें ऊंचाई वाले इलाक़ों में और ख़राब मौसम के बीच बिना ढके ही रहती हैं। इससे भी ख़राब बात यह है कि जवानों को पुराने और इस्तेमाल हो चुके मल्टी पर्पज जूते पहनने पड़ते हैं। रिपोर्ट यह भी कहती है कि सेना को नवंबर 2015 से लेकर सितंबर 2016 तक बूट ही नहीं दिये गये। 

कैग की रिपोर्ट कहती है कि स्थिति बेहद ही ख़राब है। ख़बर में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि जो जवान ऊंचाई वाले इलाक़ों में तैनात हैं, उन्हें पुराने वर्जन के फ़ेस मास्क, जैकेट और स्लीपिंग बैंग दिए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि ये जवान बेहतर उत्पादों का इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं और रक्षा प्रयोगशालाओं द्वारा अनुसंधान और विकास की कमी के कारण आयात पर निरंतर निर्भरता बनी हुई है। 

देश से और ख़बरें

इस साल मई में अंग्रेज़ी अख़बार ‘द टाइम्स ऑफ़ इंडिया’ में भी एक ऐसी ही ख़बर छपी थी जिसके मुताबिक़, सेना ने इस पर चिंता जताई थी कि टैंक, तोप, बंदूकें और हवाई सुरक्षा में इस्तेमाल होने वाले गोला-बारूद बेहद ख़राब और घटिया क्वालिटी के हैं और इस वजह से बार-बार हादसे हो रहे हैं। सेना ने कहा था कि पहले से ज़्यादा हादसे हो रहे हैं, जिससे अधिक संख्या में लोग मारे जा रहे हैं, लोग घायल हो रहे हैं और उपकरण बर्बाद हो रहे हैं और  इससे सेना का मनोबल गिर रहा है। 

मोदी सरकार से कैग की इस रिपोर्ट को लेकर सवाल यही पूछा जाना चाहिए कि आख़िर यह हालात क्यों बने हैं। जबकि प्रधानमंत्री से लेकर पूरी सरकार बार-बार सैनिकों का सम्मान करने का दावा करती है। बर्फ में खड़े सैनिक किस तरह इन हालात का सामना करते होंगे, यह सोचकर ही मन डर जाता है। और बड़ा सवाल यह है कि आख़िर वे कब तक ऐसे हालात का सामना कर पाएंगे क्योंकि ऊंचाई वाले इलाक़ों में एक तो मौसम बेहद ख़राब होता है, दूसरा जवानों को न तो ढंग का खाना मिल रहा है और न ही ज़रूरी चीजें। 

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें